PS Health Tips

Health Tips & Solution

Type 1-2 Diabetes, Causes, Symptoms, Treatment – SulGo

Type 1-2 Diabetes, Causes, Symptoms, Treatment – SulGo

डायबिटीज (Type 1-2 Diabetes, Causes, Symptoms, Treatment – SulGo)

Diabetes मेलेटस (डीएम), जिसे सामान्यतः मधुमेह कहा जाता है, पाच्य संबंधी बीमारियों का एक समूह है जिसमें लंबे समय तक रक्त में शर्करा का स्तर उच्च होता है। यदि Diabetes को अनुपचारित छोड़ दिया जाता है तो , Diabetes कई जटिलताओं का कारण बन सकता है। तीव्र जटिलताओं में मधुमेह केटोएसिडोसिस, नॉनकेटोटिक हाइपरोस्मोलर कोमा, या मौत शामिल हो सकती है। गंभीर दीर्घकालिक जटिलताओं में हृदय रोग, स्ट्रोक, क्रोनिक किडनी की विफलता, पैर में अल्सर आंखों को नुकसान और  त्वचा रोग शामिल है।

मधुमेह के चार मुख्य प्रकार हैं  (Type 1-2 Diabetes, Causes, Symptoms, Treatment – SulGo)

  • टाइप 1 डायबिटीज पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन करने के लिए अग्न्याशय की विफलता का परिणाम है। इस रूप को पहले “इंसुलिन-आश्रित मधुमेह मेलाईटस” (आईडीडीएम) या “किशोर मधुमेह” के रूप में जाना जाता था। इसका कारण अज्ञात है
  •  टाइप 2 डायबिटीज एम इंसुलिन प्रतिरोध से शुरू होता है, एक हालत जिसमें कोशिका इंसुलिन को ठीक से जवाब देने में विफल होती है। जैसे-जैसे रोग की प्रगति होती है, इंसुलिन की कमी भी विकसित हो सकती है। इस फॉर्म को पहले “गैर इंसुलिन-आश्रित मधुमेह मेलेतुस” (एनआईडीडीएम) या “वयस्क-शुरुआत मधुमेह” के रूप में जाना जाता था। इसका सबसे आम कारण अत्यधिक शरीर का  वजन होना और पर्याप्त व्यायाम न करना है।
  • गर्भावधि मधुमेह इसका तीसरा मुख्य रूप है और तब होता है जब मधुमेह के पिछले इतिहास के बिना गर्भवती महिलाओं को उच्च रक्त शर्करा के स्तर का विकास होता है।
  • सेकेंडरी डायबिटीज इस प्रकार की डायबिटीज इलाज करने मात्र से ही सही हो सकती है।

संकेत और लक्षण (Type 1-2 Diabetes, Causes, Symptoms, Treatment – SulGo)

मधुमेह (Diabetes) के सबसे आम संकेतो में शामिल है :
  • बहुत ज्यादा और बार बार प्यास लगना
  • बार बार पेशाब आना
  • लगातार भूख लगना
  • अत्यधिक भूख लगना
  • अनायास वजन कम होना
  • चिड़चिड़ापन और अन्य मनोदशा कमजोरी और थकान को बदलते हैं
  • अकारण थकावट महसूस होना
  • घाव ठीक न होना या देर से घाव ठीक होना
  • रक्त में संक्रमण होना
  • खुजली या त्वचा रोग
  • सिरदर्द
  • धुंधला दिखना

कृपया ध्यान दे : (Type 1-2 Diabetes, Causes, Symptoms, Treatment – SulGo)

डायबिटीज टाइप-1 और डायबिटीज टाइप-2 सुनकर अक्सर लोगों के मन में यह सवाल आता है कि आखिर ये डायबिटीज 1 और 2 है क्या? इनमें क्या अंतर है? और क्या इनके लक्षण अलग-अलग होते हैं? आइए, आपके मन में उठनेवाले ऐसे हर सवाल का जवाब यहां मिलेगा…

दो तरह की होती है डायबिटीज (Type 1-2 Diabetes)

टाइप 1 डायबिटीज क्या है? (What is Type 1 Diabetes ?)

“यह स्थिति छोटे बच्चों और कम उम्र के लोगों में एक बहुत ही आम समस्या है। इसे जुवेनाइल डायबिटीज (juvenile diabetes) भी कहते हैं।” टाइप 1 डायबिटीज में आपकी इम्यून सेल्स आपके पैंनक्रियाज़ यानि अग्नाशय में बीटा सेल्स को नुकसान पहुंचाती हैं। बीटा सेल्स इंसुलिन हार्मोन्स का निर्माण करती हैं। इसका मतलब है कि इन सेल्स को नुकसान पहुंचने पर पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बन पाता। जब शरीर में इंसुलिन का उत्पादन कम मात्रा में होता है तो शरीर रक्त में मौजूद ग्लूकोज़ से शक्ति प्राप्त नहीं कर पाता। जिससे, रक्त और यूरीन में ग्लूकोज का स्तर बहुत अधिक बढ़ जाता है।

टाइप 1 डायबिटीज के कारण क्या हैं? (Type 1 Diabetes Causes)

टाइप 1 डायबिटीज के सही कारणों का पता अभी तक नहीं चल सकता है। ऐसा भी नहीं कहा जा सकता कि किस समूह के लोगों को इस प्रकार के डायबिटीज का खतरा अधिक है। हालांकि, कुछ रिसर्च के अनुसार जिन लोगों के शरीर में ऑटोएंटीबॉडीज़ होती हैं। उन लोगों में टाइप 1 डायबिटीज होने का खतरा अधिक है। अनुवांशिकता और पर्यावरण टाइप 1 डायबिटीज होने की संभावना एक निश्चित सीमा तक बढ़ा देते हैं।

टाइप 1 डायबिटीज का खतरा किसे है ? (Who is at risk for Type 1 Diabetes ?)

इस प्रकार के डायबिटीज के बारे में अभी बहुत शोध करने की ज़रूरत है। इसी तरह इसके खतरे  या रिस्क फैक्टर्स के बारे में भी बहुत कम जानकारी उपलब्ध है।  हालांकि, रिसर्चर्स ने कुछ ऐसे ग्रुप्स का पता लगाया है जिन्हें टाइप 1 डायबिटीज का खतरा दूसरों की तुलना में अधिक है, जैसे:

  • ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता दोनों को डायबिटीज हो
  • जेस्टेशन डायबिटीज से पीड़ित मां के बच्चे
  • पैंक्रियाज़ से जुड़े इंफेक्शन, चोट या ट्रॉमा से गुज़र चुके बच्चे
  • बहुत ठंडे प्रदेशों में रहने वाले लोग

टाइप 1 डायबिटीज के नुकसान क्या हो सकते हैं ? (What can be the disadvantages of Type 1 Diabetes?)

रक्त में ग्लूकोज़ का उच्च स्तर शरीर के महत्वपूर्ण अंगों को हानि पहुंचा सकता है। इसे नियंत्रित ना किया जाए तो इन समस्याओं का ख़तरा बढ़ जाता है:

  • हार्ट अटैक
  • नज़र का धुंधलापन
  • नसों को नुकसान
  • गम्भीर इंफेक्शन्स
  • किडनी फेलियर

टाइप-2 डायबिटीज क्या है? (What is Type 2 Diabetes ?)

टाइप-2 डायबिटीज खराब जीवनशैली के कारण होती है। इसके प्रमुख कारण हैं, अधिक फैट, समय पर ना सोना, बहुत अधिक नशा करना, हाई बीपी, सुबह देर तक सोना और निष्क्रिय जीवनशैली। टाइप-2 डायबिटीज में भी शरीर में इंसुलिन का बनना कम हो जाता है। शारीरिक गतिविधियों और गलत खानपान की वजह से ऐसा होता है। शरीर में इंसुलिन कम बनने से ब्लड में मौजूद कोशिकाएं इंसुलिन के प्रति बहुत कम संवेदनशीलता दिखाती हैं। इस वजह से रक्त में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है और व्यक्ति टाइप-2 डायबिटीज का शिकार हो जाता है।

टाइप 2 डायबिटीज के कारण क्या हैं? (Type 2 Diabetes Causes)

इसे भी पढ़ें :- स्वस्थ आहार – Healthy Food in Hindi 2021

डायबिटीज Diabetes के आम संकेतों और लक्षणों में शामिल है:

1. पेशाब की बारंबारता और मात्रा में वृद्धि
2. प्यास में वृद्धि
3. वजन कम होना
4. धुंधली नजर
5. थकान
6. त्वचा संक्रमण

जांच-पड़ताल

1. खाली पेट और लंच के बाद ब्लड शुगर की जांच: खाली पेट यानी रात भर लगभग 8 से 12 घंटे उपवास रहने के बाद और उसके बाद लंच करने के 2 घंटे बाद खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच। इससे किसी भी रोगी में डायबिटीज के लिए बुनियादी नित्य जांच पूरी हो जाती है।
2. एचबीए1सी (ग्लाइकोसाइलेटेड हीमोग्लोबिन): यह वह जांच है जो आपको पिछले 3 महीने के दौरान खून में ग्लूकोज के स्तर का औसत अनुमान देता है।
3. ग्लूकोज टोलरेंस टेस्ट: यह उन रोगियों में दाय्बित्ज की पहचान करने में मदद करता है जिनके शरीर में खाली पेट ग्लूकोज की मात्रा बहुत अधिक है।
किए जा सकने वाले अन्य जांच-पड़ताल हैं यूरिन फॉर प्रो-टीन, कम्प्लीट ब्लड काउंट, यूरिया और इलेक्ट्रोलाइट्स, लिपिड प्रोफाइल और लीवर फंक्शन टेस्ट।

शुगर इस तरह करती है परेशान

⭐ जब हमारा अग्नाश्य इंसुलिन नाम का हॉर्मोन बनाता है तो शुगर या ग्लूकोज हमारे ब्लड में फ्लो नहीं करता। बल्कि ऊर्जा के रूप में शरीर में स्टोर हो जाता है। इसकी मात्रा बढ़ने लगती है तब हम कहते हैं फैट बढ़ रहा है।

⭐ जब हमारे शरीर को ऊर्जा की जरूरत होती है और हम कुछ खा नहीं पाते हैं तब हमारा शरीर इस स्टोर फैट का उपयोग करता है। ताकि सभी अंग ठीक से काम करते रहें।

⭐ लेकिन इंसुलिन के अभाव में शुगर कोशिकाओं में स्टोर ना होकर ब्लड में ही घूमती रहती है। इससे रक्त में मौजूद रेड ब्लड सेल और वाइड ब्लड सेल अपना काम नहीं कर पाती हैं। जिससे हमें जल्दी-जल्दी बीमारियां होने लगती हैं और मामूली बीमारी को ठीक होने में भी लंबा वक्त लग जाता है।

SUL GO

 

SulGo के बारे में खोज, विकास और वितरण

लगभग 10 वर्षों से हमने शुगर (Diabetes) पर काफी स्टडी की और उसका परिणाम हमारी यह दवाई Sulgo है। यह पूरी तरह से आयुर्वेदिक है।

यह दवाई शुगर (Diabetes) को नियंत्रित करने के साथ-साथ शुगर को ठीक करने तथा इस से हुए साइड इफेक्ट को ठीक करने में बहुत लाभदायक है।

जैसा कि आप सबको पता है शुगर (Diabetes) एक बीमारी का नाम  है लेकिन यह हर मरीज के लिए अलग-अलग है। मरीज के शुगर (Diabetes) लेवल के हिसाब से इसकी दवाई दी जाती है।

Type 1 Diabetes टाइप 1 डायबिटीज आजीवन बीमारी है। हमारी दवाई Sulgo इसमें शुगर से हुए साइड इफेक्ट को ठीक करने में लाभप्रद है।

Type 2 Diabetes टाइप 2 डायबिटीज एक जटिल बीमारी है जिसके बारे में आपने ऊपर पढ़ा होगा हमारी यह दवाई Sulgo टाइप 2 में बहुत असरदार है। ऐसे कई मरीज है जिन्होंने SulGO टेबलेट से उपयोग में लाने के बाद अपनी बाकी की सभी दवाइयाँ बंद कर दी और आज वह सिर्फ SulGo के साथ अपनी जिंदगी सुख में व्यतीत कर रहे हैं। उनके शरीर पर पहले से जो साइड इफेक्ट हो रखे थे वो भी पूरी तरह से ठीक हो गए हैं ।

SulGo दवाई 100% आयुर्वेदिक दवाई है। यह आपके शरीर को ठीक करती है। इसका असर धीरे-धीरे आता है लेकिन इससे आराम आएगा। आपका शरीर में यह इम्युनिटी बूस्टर  का काम करती है। जैसे जैसे आपका शरीर की कार्यप्रणाली ठीक होती जाती है वैसे वैसे आप की शुगर (Diabetes) कंट्रोल होने लगती है।

SUL-GO HERBAL TABLET

Type 1 or 2 Diabetes Symptoms, Causes, Control, SUL GO

इसे भी पढ़ें :- Women Health Tips 2021: महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के बारे में क्या पता होना चाहिए

उपलब्धि  SUL GO

इस दवाई को बहुत से संस्थानों ने प्रोत्साहित किया है।

 

SUL GO से ठीक हुए मरीजों की तस्वीरें 

SUL GO से ठीक हुए मरीजों की वीडियो

Type 1 or 2 Diabetes Symptoms, Causes, Control, SUL GO

Contact To SULGO   

Website:-  www.sulgo.in

Mobile No:- +91 9518819191

Gmail:-  sulgosugar@gmail.com

Facebook Page:- https://www.facebook.com/SulgoBahadurgarh

Youtube:-  SulGo Herbal – YouTube

PS Health Tips © 2020
%d bloggers like this: