Vasant Panchami 2019| Vasant Panchami Message

Vasant Panchami 2019| Vasant Panchami Message : जब फूलों पर बहार आ जाती है, खेतों में सरसों का सोना चमकने लगता है, जौ और गेहूँ की बालियाँ खिलने लगती हैं, आमों के पेड़ों पर बौर आ जाती है और हर तरफ तितलियाँ मँडराने लगती हैं, तब वसंत पंचमी का त्योहार आता है। इसे ऋषि पंचमी भी कहा जाता हैं।

वसंत पंचमी का त्योहार हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व (Festival of Vasant Panchami is a special significance in Hinduism)
 

वसंत पंचमी का त्योहार हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व रखता है। इस दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है। यह पूजा पूर्वी भारत में बड़े उल्लास से की जाती है। इस दिन स्त्रियाँ पीले वस्त्र धारण कर पूजा-अर्चना करती हैं। पूरे साल को जिन छः मौसमों में बाँटा गया है, उनमें वसंत लोगों का मनचाहा मौसम है।

जीवन में अनुशासन का महत्व समझो

वसंत पंचमी के बारे मे कथा (Story about Vasant Panchami)

सृष्टि के प्रारंभिक काल में भगवान विष्णु की आज्ञा से ब्रह्माजी ने मनुष्य की रचना की थी यानि जब ये संसार बना था, परंतु ऐसा करके वह अपनी इस संरचना से संतुष्ट नहीं थे, तब उन्होंने विष्णु जी से आज्ञा लेकर अपने कमंडल से जल को पृथ्वी पर छि़ड़क दिया, जिससे पृथ्वी पर कंपन होने लगा और एक अद्भुत शक्ति के रूप में चतुर्भुजी सुंदर स्त्री प्रकट हुई। उस देवी को वाणी की देवी सरस्वती कहा गया।


Vasant Panchami 2019| Vasant Panchami Message

Vasant Panchami 2019|  Vasant Panchami Message

जिनके एक हाथ में वीणा थी और दूसरे हाथ में वर मुद्रा में थी । वहीं अन्य दोनों हाथों में पुस्तक एवं माला थी। जब इस देवी ने अपनी वीणा से मधुर नाद किया तो संसार के समस्त जीव-जंतुओं को वाणी प्राप्त हो गई, तब ब्रह्माजी ने उस देवी को वाणी की देवी सरस्वती कहा।

वसंत पंचमी के दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा क्यों की जाती है?( Why is the worship of Goddess Saraswati worshipped on the day of Vasant Panchami?)

इस दिन सरस्वती को बागीश्वरी, भगवती, शारदा, वीणावादनी और वाग्देवी सहित अनेक नामों से पूजा जाता है। संगीत की उत्पत्ति करने के कारण वह संगीत की देवी भी हैं। वसंत पंचमी के दिन को इनके जन्मोत्सव के रूप में भी मनाते हैं। पुराणों के अनुसार श्रीकृष्ण ने सरस्वती से खुश होकर उन्हें वरदान दिया था कि वसंत पचंमी के दिन तुम्हारी भी आराधना की जाएगी। इस कारण हिंदू धर्म में वसंत पंचमी के दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है।


वसंत ऋतु पर्व का क्या महत्व है?(What is the significance of the spring festival?)

वसंत ऋतु में मानव तो क्या पशु-पक्षी तक उल्लास भरने लगते हैं। यूं तो माघ का पूरा मास ही उत्साह देने वाला होता है, पर वसंत पंचमी का पर्व हमारे लिए कुछ खास महत्व रखता है। प्राचीनकाल से इसे ज्ञान और कला की देवी माँ सरस्वती का जन्मदिवस माना जाता है, इसलिए इस दिन मां शारदे की पूजा कर उनसे ज्ञानवान, विद्यावान होने की कामना की जाती है। वहीं कलाकारों में इस दिन का विशेष महत्व है। कवि, लेखक, गायक, वादक, नाटककार, नृत्यकार अपने उपकरणों की पूजा के साथ मां सरस्वती की वंदना करते हैं।

Vasant Panchami 2019|  Vasant Panchami Message

वसंत पंचमी पूजन की विधि (Method of Vasant Panchami worship)

वसंत पंचमी आज रविवार होने की वजह से अधिक फलदायी है। इस दिन स्वच्छ पीले वस्त्र धारणकर माँ शारदे की पूजा करनी चाहिए। साथ ही केशरयुक्त मीठे चावल अवश्य घर में बनाकर उनका सेवन करे।

कक्षा में टॉपर कैसे बनें?

बसंत पंचमी (2019 Basant Panchami 2019)

इस बार की बसंत पंचमी (Vasant Panchami) और भी खास है, क्योंकि प्रयागराज में चल रहे कुंभ मेले (Kumbh Mela) में आज शाही स्नान (Shahi Snan) किया जाएगा। कुल मिलाकर बसंत पंचमी (Basant Panchami 2019) हर तरफ नई उमंग और ऊर्जा लेकर आएगी।

Vasant Panchami 2019|  Vasant Panchami Message

Face Book Fan Page

इस समय सर्दियां सुहावनी होने लगती हैं, खेतों में पीली सरसों लहलहा उठती हैं। पेड़-पौधों में फिर से नई कलियां खिल उठती हैं और हर तरफ सकारात्मक माहौल हो उठता है। इसके साथ ही हर तरफ मां सरस्वती (Saraswati) की पूजी जाएंगी।

बसंत पंचमी के मैसेज (Basant Panchami Messages)

ऐसे में आप इस दिन की बधाई देने में पीछे ना रहें। यहां दिए जा रहे Basant Panchami Messages भेजकर सभी को शुभकामनाएं दें।

पीले-पीले सरसों के फूल, पीली उड़ी पतंग,
रंग बरसे पीले और छाए सरसों की उमंग।
जीवन में आपके रहे हमेशा बसंत के ये रंग,
आपके जीवन में बनी रहे खुशियों की तरंग।
Happy Basant पंचमी।।


हलके-हलके से हो बादल, खुला-खुला सा आकाश,
मिल कर उड़ाएं पतंग अमन की,
आओ फैलाएं खुशियों का पैगाम।
Happy Basant पंचमी।।

बसंत पंचमी के दिन पीले रंग के कपड़े क्यों पहने जाते है?(Why are the yellow colored clothes worn on Basant Panchami?)

बसंत पंचमी (Basant Panchami 2019) के दिन पीला रंग पहनना शुभ माना जाता है। इसके पीछे दो महत्वपूर्ण कारण माने जाते हैं। पहला बसंत को ऋतुओं का त्योहार माना जाता है। बसंत पंचमी के दिन से कड़कड़ाती ठंड खत्म होकर, मौसम सुहावना होने लगता है। हर तरफ पेड़-पौधों पर नई पत्तियां, फूल-कलियां खिलने लग जाती हैं। गांव में इस मौसम में सरसों की फसल की वजह से धरती पीली नज़र आती है। इस पीली धरती को ध्यान में रख कर लोग बसंत पंचमी का स्वागत पीले कपड़े पहनकर करते हैं।

वहीं, दूसरी मान्यता के अनुसार बसंत पंचमी के दिन सूर्य उत्तरायण होता है। जिसकी पीली किरणें इस बात का प्रतीक है कि हमे सूर्य की तरह गंभीर और प्रखर बनना चाहिए।

इन्हीं दो वजहों से बसंत पंचमी के दिन पीले रंग का खास महत्व रहता है। इतना ही नहीं बसंत पंचमी के दिन पीला प्रसाद और खाना भी पीले रंग का ही बनता है।

vasant Panchami,Basant Panchami 2019,vasant panchami, basant panchami message,Basant Panchami Status,Kumbh,

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *