Health And Beauty

Beauty is Health And Health is Beauty

कम बोलना, आपको बनाएगा बेहतर(Speaking Less, Benefits Of Speaking Less, Speaking Less Quotes)

कम बोलना,आपको बनाएगा बेहतर(Speaking Less,   Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes )

Speaking Less, Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes — यह सीधी सी बात है कि जो कम बोलते हैं। या कहे कि केवल जरूरत होने पर ही बोलते हैं। सफलता तक जल्दी पहुंचते हैं। वे रिश्तो में भी कामयाब होते हैं। और सामाजिक स्तर पर उनका मान ज्यादा होता है। इल्जाम अक्सर महिलाओं के सिर आता है कि वह बहुत बोलती हैं। साथ ही यह भी कि उनकी ढेर सारी बातों में, समझदारी भरी बातें जरा कम होती हैं।

इन नामों में से दूसरा शायद कुछ ठीक लगे क्योंकि यह हर इंसान के लिए सच है। लेकिन यह सोचना होगा कि ज्यादा बोलना अहमियत नहीं दिलाता और बोलने की गति बढ़ा देने से तर्क नहीं आ जाता। इसके तरीकों पर आज इस Article मे बात की ही जाएगी। तो चलिये शुरु करते हैं।

कम बोलने के फायदे(Benefits Of Speaking Less In Hindi)

बात में दम बना रहता है (Strains In The Matter)

जो ज्यादा बोलता है। उनकी सारी बातों का तर्क पूर्ण होना मुश्किल है। इसलिए कम बोलना ही बेहतर है। बात में दम बना रहता है। और छवि भी निखरती है। कम बोलने की आदत विकसित की जा सकती है।

कम बोलना,आपको बनाएगा बेहतर(Speaking Less,   Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes )

बच्चों की हाइट बढ़ाने के लिए घरेलू टिप्स

सुनने पर भी दिजिये ध्यान (Also Listen To Meditation)

दूसरा क्या कह रहा है इस बात का भी ध्यान दीजिए। कोशिश कीजिए कि बात पूरी सुने। बीच मे न टोके। जो लोग बहुत ज्यादा बोलते हैं। अक्सर चुप रहने के दौरान भी यही सोचने में लग जाते हैं कि अब उन्हें क्या बोलना चाहिए। ऐसे में बोलना भी ज्यादा ही हो जाता है। क्योंकि वह दूसरे की बात सुन ही नहीं रहे होते हैं।

Facebook Fan Page

कम बोलना,आपको बनाएगा बेहतर(Speaking Less,   Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes )

संकेतों का इस्तमाल करें (Use Signals)

बातूनी लोगों का तर्क होता है कि वे बीच मे बोलकर यह साबित करते हैं। कि वे सुन रहे हैं। आंखों व सिर की हरकतों से भी यह जताया जा सकता हैं। बोलने से गुरेज करें। अगर जरुरी लगे तो Hmm, जी हाँ, जैसे छोटे छोटे अनुमोदित शब्द बोले। लेकिन इनमें भी अति ना करें। मतलब यह भी बार-बार ना बोले।

कम बोलना,आपको बनाएगा बेहतर(Speaking Less,   Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes )


Speaking Less, Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes

गुणकारी है कीवी

वीराम पर आप भी ठहरे (You Stay At Viraam)

कितनी ही बार ऐसा होता है कि बातचीत के दौरान एक असहज सा विराम आ जाता है। जरूरी नहीं हैं कि हड़बड़ा कर उस दौरान कुछ बोला ही जाए। इस समय में विषय पर और बोलने को क्या बचा है? जैसी बातों पर विचार करने से भी फायदा होता है।

कम बोलना,आपको बनाएगा बेहतर(Speaking Less,   Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes )

दुनिया के सबसे ऊंचे सरदार

पहले सोचे, फिर बोले (Think First, Then Talk)

यह काफी पुराना तरीका है। लेकिन सदा कारगर साबित होता है। सोच कर बोलने से कई बार गैर जरूरी बातें बोलने से बच जाते हैं। और अंत में ऐसी टिप्पणी करने से भी जो देर तक सब को परेशान करती रहती है। इससे बाद में अपनी ही बातों पर लीपापोती करना और पछतावा नहीं करना पड़ता।

कम बोलना,आपको बनाएगा बेहतर(Speaking Less,   Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes )

बोल और बोल लाते हैं(Speak And Speak)

यह सच है कि शब्द कण्ठ से स्पंदन करते हैं। मतलब कण्ठ से बोले जाते हैं। जितना ज्यादा हम बोलेंगे, उतना ही और बोलने का मन करेगा। क्योंकि पिछले शब्द अगले शब्दों की राह को प्रशस्त करते चले जाते हैं।

कम बोलना,आपको बनाएगा बेहतर(Speaking Less,   Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes )

Facebook Fan Page

बोलने वाला इसी वजह से और बोलता चला जाता है। अधिक बोलना, अनर्गल तक जाता है। और अनर्गल नकारात्मकता तक पहुंचा देता है ।

अक्सर यह देखने में आया है कि कम बोलने वाले लोग अपनी कमियों को बहुत चालाकी से छिपा देते हैं। यदि जागरूक हुए तो सजगता से अपनी कमियों पर भी ध्यान रखकर उसे सुधारने में भी लग जाते हैं।

कम बोलना,आपको बनाएगा बेहतर(Speaking Less,   Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes )


Speaking Less, Benefits Of Speaking Less, Speaking less quotes

एक अरबी कहावत है कि जब तक आपके पास बोलने के लिए कुछ अच्छा न हो। तब तक अपना मुंह बंद रखें और मन के मोती को मत खोने दीजिए।

कम बोली बोलना (Speaking less quotes In Hindi)

आप जितना कम बोलोगे, आपकी उतनी ही सुनी जायेगी।

बहुत दूर तक जाना पडता हैं, सिर्फ यह जानने के लिये कि नजदीक कौन है।

कहा मिलता हैं, कोई समझने वाला। जो मिलता है, समझाके चला जाता हैं।

भूलने की बाते याद हैं। इसलिये जिन्दगी मे विवाद है।

कबीर कुआ एक है, पानी भरे अनेक। बर्तन ही मे भेद है, पानी सब मे एक।

परखा बहुत गया मुझे। लेकिन समझा नही गया।

पहचान से मिला काम, थोड़े बहुत समय के लिये रहता है। लेकिन काम से मिली पहचान उम्र भर रहती है।

आपका सबसे अच्छा सिक्षक, आपकी आखरी गलती है।

वो शख्स जो झुक कर, तुमसे मिला होगा। यकीनन उसका कद तुमसे बडा होगा।

एक समय मे एक काम करो। और ऐसा करते समय, अपनी आत्मा उसमे झोंक दो। और बाकी सब कुछ भुल जाओ।

इस देश के सबसे अच्छे दिमाग, क्लास के आखरी बैंच पर मिल स्कते है।

अगर आपका लक्ष्य बड़ा हो और उस पर हसने वाला कोई न हो तो, समझ लेना आपका लक्ष्य अभी छोटा है।

बड़ी इज्जत करता हूं। मैं अपने दुस्मनो की, कि बहुत कुछ सिखा हैं, इनसे ठोकरे खा – खा करके।

Please follow and like us:

1 Comment

Add a Comment
  1. thanks bhai apke ache artical ke liye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Health And Beauty © 2018 Designed By VIKRAM VIRODHIA
Translate »
Facebook
Facebook
Google+
Google+
https://www.pshealthtips.com/knowledge/speaking-less">
https://in.pinterest.com/kavitasoni7880/
https://www.linkedin.com/in/kavita-soni-026239166/
https://www.instagram.com/kavitasoni7880/