माँ – प्यारी माँ – मेरी माँ (Quotes On Mother In Hindi, Essay On Mother In Hindi

अवसर पर किस साड़ी को पहनना है, यह वह बहुत अच्छी तरह जानती है । वह करवा चौथ तथा अहोई को आभूषण से सुसज्जित होकर पूजा करती है । त्यौहारों के अवसर पर वह बढ़िया पकवान बनाती है । होली, दीपावली, दशहरा, जन्माष्टमी आदि सभी पर्व विधि विधान पूर्वक पूजन करके मनाती है ।
वह मेरी बहन और बुआ को सावन की तीज का सिंदारा देना नहीं भूलती । समय-समय पर उन के यहाँ उपहार भिजवाना नहीं भूलती ।

माँ – प्यारी माँ – मेरी माँ (Quitoes On Mother In Hindi, Essay On Mother In Hindi

वह मेरे पिताजी का बड़ा आदर करती है, पर उसे उनका मदिरा पान करना कतई पसन्द नहीं है । इस बात को लेकर घर में कभी-कभी कहासुनी हो जाती है। अब मेरे पिताजी ने मदिरा पान करना लगभग छोड़ दिया है । अगर पीते होंगे तो घर से बाहर ।  वह घर पर आने वाले अतिथियों, पिताजी के मित्रों और हमारे साथियों का यथा संभव स्वागत करती है । वह उन्हें कभी बोझ नहीं समझती । मैं यह समझती हूँ कि हमारे घर को सुख-पूर्वक चलाने में मेरी माँ की बहुत बड़ी भूमिका है । मुझे मेरी माँ पर गर्व है ।  I M PROUD OF MY MOTHER

माँ – प्यारी माँ – मेरी माँ (Quitoes On Mother In Hindi, Essay On Mother In Hindi

माँ- बेटी का प्यार (Mother-daughter’s love In Hindi)

दुनिया मे माँ- बेटी का प्यार सबसे न्यारा होता है।  एक Mummy  अपनी बेटी की हर जरुरत को अच्छे से समझती है। वैसे बेटी भी किसी से कम नही होती। वो भी अपनी Mummy  का बहुत खयाल रखती है। वो भी अपनी Mummy  की परछाई होती है । दरअसल ये एक ऐसा बन्धन है। जो प्यार की कभी न टूटने वाली डोर से बंधा है।

माँ – प्यारी माँ – मेरी माँ (Quitoes On Mother In Hindi, Essay On Mother In Hindi

 माँ के उपर कुछ लाईन ( Quotes On Mother In Hindi)

“ऊपर जिसका अंत नही, उसे आसमां  कहते है
जहां मे जिसका अन्त नही, उसे माँ  कहते  है। ”

जिंदगी में उपर वाले से इतना जरूर मांग लेना ,
कि मां के बिना कोई घर ना हो और कोई मां बेघर ना हो।

मांग लूं यह मन्नत कि फिर यही जहां मिले ,
फिर यहीं गोद और फिर यही माँ मिले।

Facebook Fan Page 

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *