माँ – प्यारी माँ – मेरी माँ (Quotes On Mother In Hindi, Essay On Mother In Hindi

माँ – प्यारी माँ – मेरी माँ (Quitoes On Mother In Hindi, Essay On Mother In Hindi

  • सुबह सबसे पहले उठकर बच्चो का खाना बनाती है । उनको तैयार करती है। अगर थोडी सी भी देर हो जाये तो बच्चो को फटकार लगाती है। लेकिन उस फटकार मे भी कितना प्यार छिपा होता है । उसका तो कोई अन्दाजा भी नही लगा सकता।
  • बच्चो के बहुत जल्दी क्लोज़ भी हो जाती है – Mummy  । बच्चो की Best Friend भी  बन जाती है । बच्चो की हर Problem का Solution पल मे कर देती है Mummy.  जब भी बच्चे फोन हाथ मे लेते है तब भी  बच्चो को गुस्सा करती है। ओर कहती है कि इतना फ़ोन मत Use किया करो । पढ़ लिया करो।

माँ के इंंतने रुप होते है। जिनका बखान भी नही किया जा सकता। इस जन्म देने वाली  के लिये तो यु तो हर दिन मनाया जा सकता है। वह अपने बच्चे के हर सुख -दुख को जान जाती है। और हर मौड़ पर उसका साथ देती है। उसका प्यार असीम ओर बेसुमार होता है। इसलिये Mothers Day भी  मनाया जाता है । जो माँ के नाम एक दिन देकर उसके हर त्याग ओर बेहद प्यार के लिये सुक्र्गुजार किया जाता है।

मेरी माँ पर निबंध (Essay On Mother In Hindi)

मेरी माँ बहुत सुन्दर है, उसके बाल लम्बे और आँखें हिरणी जैसी सुन्दर हैं। वह एक समझदार महिला है। वह हर Situation को अच्छे से Handle करना जानती है। देखने में पतली लेकिन पूर्ण स्वस्थ है । उस की आयु लगभग 35 वर्ष है। हमेशा अपने को व्यस्त रखती है । मैं अपनी शक्ति के अनुरुप यानि अपनी capacity के अनुसार अपनी माँ के कार्यों में मदद करती हूँ । वह घर के सभी काम स्वयं करती हैं।

माँ – प्यारी माँ – मेरी माँ (Quitoes On Mother In Hindi, Essay On Mother In Hindi
वह सुबह सबसे पहले घर की सफाई करती हैं । फिर हमारे लिए खाना बनाती है। फिर हमको स्कूल के लिए उठाती है। फिर हमारे लिए खाना बनाती है। और सब को प्यार से खिलाती हैं ।

माँ – प्यारी माँ – मेरी माँ (Quitoes On Mother In Hindi, Essay On Mother In Hindi
कपड़ों को धोकर उन्हें प्रैस करके हमें पहनाती हैं । शाम को हमारे साथ खेलती भी हैं। वह अच्छी बाते करती रहती है और महापुरुषों की कहानियाँ भी सुनाती हैं । उसकी सोचने समझने की शक्ति बहुत अच्छी है । लाइफ को लेकर हमेशा कौन्सियस रहती है यानि सीरियस रहती है और हमको भी लाइफ में हमेशा सोच समझकर काम करने की सलाह देती है घर का खर्च भी अच्छी तरह चलाती है। घर में सुबह सबसे पहले उठती है और सबको सुलाने के बाद ही सोती है ।

माँ – प्यारी माँ – मेरी माँ (Quitoes On Mother In Hindi, Essay On Mother In Hindi

Facebook Fan Page 

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *