दुनिया के सबसे ऊंचे सरदार (Statue of Unity, The Tallest Statue In The World – A Tribute To Sardar Vallabhbhai Patel)

Statue of Unity, The Tallest Statue In The World — स्टैचू ऑफ यूनिटी (Statue of unity) भारत के प्रथम उप प्रधानमंत्री तथा प्रथम गृह मंत्री बल्लभ भाई पटेल (Vallabh Bhai Patel) को समर्पित एक स्मारक है । जो भारतीय राज्य गुजरात में स्थित है । सरदार वल्लभभाई पटेल की 142 मीटर ऊंची प्रतिमा, स्टैचू ऑफ यूनिटी का 31 अक्टूबर को 143 जयंती पर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भव्य समारोह में अनावरण किया। यह स्मारक सरदार सरोवर बांध से 3.2 किलोमीटर की दूरी पर, साधु बेट नामक स्थान पर है। जो कि नर्मदा नदी पर एक टापू है। यह स्थान भारतीय राज्य गुजरात के भरूच के निकट नर्मदा जिले में स्थित है ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मूर्ति के निर्माण का शिलान्यास किया (Prime Minister Narendra Modi Laid The Foundation Stone Of The Ttatue)

गुजरात मे तत्कालीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने 31 अक्टूबर 2013 को सरदार पटेल के जन्म दिवस के मौके पर इस विशालकाय मूर्ति के निर्माण का शिलान्यास किया था। प्रारंभ में इस परियोजना की कुल लागत भारत सरकार द्वारा लगभग भारतीय रुपया 3001 करोड़ रखी गई थी।

बाद में लार्सन एंड टर्बो ने अक्टूबर 2014 में सबसे कम 2989 करोड़ की बोली लगाई। जिसमें आकृति निर्माण तथा रखा राव शामिल था ।निर्माण कार्य का प्रारंभ 31 अक्टूबर 2013 को प्रारंभ हुआ।मूर्ति का निर्माण कार्य मध्य अक्टूबर 2018 में समाप्त हो गया। इस प्रतिमा को बनाने के लिए करीब ₹2979 करोड़ रुपय खर्च हुए। जिसमें से अधिकांश पैसा गुजरात सरकार ने दिया है।

Facebook Fan Page

दुनिया के सबसे ऊंचे सरदार (Statue of Unity, The Tallest Statue In The World - A Tribute To Sardar Vallabhbhai Patel)

Statue of Unity, The Tallest Statue In The World

हालांकि केंद्र सरकार ने भी इस प्रोजेक्ट के लिए मदद की थी। गुजरात सरकार ने इसके लिए एक ट्रस्ट का गठन भी किया था। सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्रीय एकता ट्रस्ट के ही पूरी निर्माण प्रक्रिया थी। देश की दिग्गज इन फ्रांस कंपनी लार्सन एंड और टर्बो गुजरात सरकार के सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड के 250 इंजीनियर और 3400 मजदूरों ने मिलकर 3 साल 9 महीने में इस प्रतिमा को तैयार किया है।

लार्सन एंड टर्बो और गुजरात सरकार के सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड ने 250 इंजीनियर ,3400 मजदूरों की मदद से, 47 महीने में निर्माण कराया। प्रतिमा के निर्माण के लिए भारत ही नहीं चीन के भी शिल्पीयों की भी मदद लेनी पड़ी।

इस स्टैचू को आकार देने में लोहा व स्टील का हुआ उपयोग (Iron and steel use in shaping this statue)

स्टैचू ऑफ यूनिटी (Statue Of Unity) को बनाने में करीब 57 लाख किलोग्राम स्ट्रक्चरल स्टील का इस्तेमाल हुआ। साथ ही 18500 मीट्रिक टन छड़ का इस्तेमाल किया गया है। 18503 में और 6500 टन स्टील मूर्ति के ढांचे में लगी। इस प्रतिमा के निर्माण में करीब 24000 टन लोहा का इस्तेमाल किया गया है। 1850 टन का बाहरी हिस्से में लगा है। 180000 टन सीमेंट कंक्रीट का इस्तेमाल निर्माण में किया गया। जबकि 25000000 सीमेंट का इस्तेमाल किया गया।

दुनिया के सबसे ऊंचे सरदार (Statue of Unity, The Tallest Statue In The World - A Tribute To Sardar Vallabhbhai Patel)

तूफान से टकराने में भी सक्षम है यह स्टैचू (This statue is also capable of hitting the storm)

स्टैचू को तैयार करने में अद्भुत इंजीनियरिंग देखने को मिली है । यह प्रतिमा 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाला वाली हवाओं को झेल सकती है। प्रतिमा के भेष में चप्पल पहने पर दिखाए गए हैं । दोनों पैरों के बीच करीब 6.4 मीटर का गैप है यह स्टैचू 6.5 के भूकंप को भी आसानी से झेल सकता है ।

यह स्टैचू नर्मदा नदी पर बने सरदार सरोवर बांध से 3.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है साधु हिल पर बनाए गए इस तक पहुंचने के लिए सड़क से एक पुल तैयार किया गया है साथ ही प्रेरकों की सुविधा के लिए दोनों तरफ तो लिफ्ट भी लगाई गई है जो कि ऊपर से करीब 7 किलोमीटर दूर तक का नजारा दिखा सकती हैं

Facebook Fan Page

दुनिया के सबसे ऊंचे सरदार (Statue of Unity, The Tallest Statue In The World - A Tribute To Sardar Vallabhbhai Patel)

Statue of Unity, The Tallest Statue In The World

स्टैचू ऑफ यूनिटी (Statue Of Unity) का कुल वजन 1700 टन है। और ऊंचाई 522 फुट यानी 182 मीटर है । प्रतिमा अपने आप में अनूठी है इसके पैर की ऊंचाई 80 फुट, हाथ की ऊंचाई 70 फुट, कंधे की ऊंचाई 140 फुट और चेहरे की ऊंचाई 70 फुट है ।

इस स्टैचू ने चीन को भी पछाड़ा (This statue has overtaken China too)

चीन स्थित स्प्रिंग टेंपल की 3 मीटर ऊंची बुद्ध प्रतिमा के नाम अब तक सबसे ऊंची मूर्ति होने का रिकॉर्ड था। मगर सरदार बल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा ने अब चीन में स्थापित इस मूर्ति को दूसरे स्थान पर छोड़ दिया है। 182 मीटर ऊंचे स्टैचू ऑफ यूनिटी (Statue of unity) का आकार न्यूयॉर्क के 93 मीटर ऊंचे स्टैचू ऑफ लिबर्टी से 2 गुना ज्यादा है।

दुनिया के सबसे ऊंचे सरदार (Statue of Unity, The Tallest Statue In The World - A Tribute To Sardar Vallabhbhai Patel)

Statue of Unity, The Tallest Statue In The World

मूर्ति बनाने वाली कंपनी लार्सन एंड टर्बो ने दावा किया है कि स्टैचू ऑफ यूनिटी (Statue Of Unity) विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा है। और महज 33 महीने के रिकॉर्ड कम समय में बनकर तैयार हुई है। जबकि स्प्रिंग टेंपल बुद्ध की मूर्ति के निर्माण में 11 साल का वक्त लगा। सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति को बनाने में करीब 2989 करोड़ रुपए का खर्चा आया। कंपनी के मुताबिक परत चढ़ाने के कार्य को छोड़कर बाकी पूरा निर्माण भारत देश में ही किया गया है।

पद्मभूषण राम वी. सुतार ने दिया इस स्टैचू को आकार (Padmabhushan Ram V. Sutar Gave Shape To This Statue)

इस मूर्ति का निर्माण 92 वर्षीय राम वी. सुतार (Ram V. Sutar) की देखरेख में हुआ है। देश-विदेश में अपने शिल्प कला का लोहा मनवाने वाले वी. सुतार को साल 2016 में सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। इससे पहले वर्ष 1999 में उन्हें पद्मश्री भी प्रदान किया जा चुका है।

वह बॉम्बे आर्ट सोसायटी के (Bombay Art Society) लाइफटाइम अचीवमेंट समेत अन्य पुरस्कार से भी नवाजे गए हैं। इन दिनों मुंबई के समुद्र में लगने वाली शिवाजी की प्रतिमा की डिजाइन भी तैयार करने में जुटे हैं।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *